Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

 - फेसबुक पर अपनी पोस्ट शेर करते विवाद बढ़ा

 - ठाकोर समुदाय गुस्से में - पोस्ट का किया विरोध

 - लड़की को पुराने रिवाज से दुधपिति करने का किया अनुरोध

बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नारे लगाती सरकार की सभी कोशिशों के बीच एक ऐसी पोस्ट वायरल हुई है जिसके बारे में जानकर आप हैरान हो जाएंगे। पोस्ट भी ठाकोर समुदाय अखिल एकता समिति के अध्यक्ष नवघणजी ठाकोर  ने की है। अपनी पोस्ट में कहा कि ठाकोर समुदाय की लड़की  दूसरे समाज के लड़के के साथ शादी करती है तो उसे पुरानी परंपरा में लड़कियों को दुधपिति करने का जो सिलसिला था उसे लागू करदेना चहिये यानी इस पोस्ट का सीधे सीधे मतलब यह निकलता है कि लड़की को मार देना चाहिए।

आपको बता दें कि ठाकोर समाज इस पोस्ट के वायरल होने के बाद काफी गुस्से में है  और फेसबुक पर हुई इस पोस्ट पर कमेंट करके अपना गुस्सा निकाल रही है। अध्यक्ष जी ने फिलहाल इस पोस्ट को फेसबुक से डिलीट कर दिया है पर इसके स्क्रीन शार्ट बनाकर फोटो शोशियल मिडीयामें तेजी से वायरल हो रहे है आपको बता दे कि दो दिन पहले ही बनासकांठा के दांतीवाड़ा तहसील के 12 गावो में ठाकोर समाज ने अपने समाज का एक अलग कानुन बनाया है जिसमे अविवाहिता लड़कियों को मोबाइल पर पाबंदी लगा दी है साथ मे समाज मे पीढ़ियों चले आ रहे गलत खर्च और रिवाजों पर पाबंदी कर दी है और उसे 12 गाँव के लोगो को मामने का समाज की और2 से मीटिंग करके हुक्म कर दिया है। तब फिर एकबार अखिल ठाकोर एकता2 समिति के अध्यक्ष ने फेसबुक पर अपनी गंदी मानसिकता को चलते पोस्ट वायरल करके ठाकोर समुदाय के लोगोंमें गुस्सा भर दिया है ।इस पोस्ट से माने तो समाज से अलग समाज से शादी करने वाली लड़की को मौत की सजा देने का फरमान इस पोस्ट के जरिये दोय जा रहा है। बनासकांठा में फिलहाल इस पोस्ट पर ठाकोर समाज मे बवाल मचा है और अध्यक्ष नवघणजी ठाकोर की गंदी मानसिकता पर जमकर किरकिरी हो रही है।

इन दिनों लगभग आधा बिहार बाढ़ के परेशानियों से जूझ रहा है। बिहार में बाढ़ के कारण 80 लोगों की मौत हो गई। बाढ़ से प्रभावित लोग सरकार से मदद की आस लगाए हुए हैं, लेकिन बिहार सरकार मानों चैन की नींद सो रही है औ बिहार के उप मुख्यमंत्री ऋतिक रौशन की फिल्म सुपर 30 देखने में ही व्यस्त हैं। सुशील मोदी पर सुपर 30 का खुमार साफ देखा जा सकता है। यही कारण है कि बिहार में सुपर 30 को टैक्स फ्री कर दिया गया है।

बाढ के विनाश लीला के बीच सुशील मोदी का सुपर 30 फिल्म का ये प्रेम विपक्षी पार्टियों को  पच नहीं रहा है। इसे लेकर पार्टी राष्ट्रीय जनता दल ने उनपर निशाना साधा है। राजद का आरोप है कि सरकार बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के बजाय फिल्म देखने में अपना में वक्त बर्बाद कर रही है।

ये कोई पहला मौका नहीं है जब सुशील मोदी इस तरह के विवादों में घिरे हैं मुजफ्फरपुर में जब चमकी बुखार से बच्चों की जाने जा रही थी तब भी सुशील मोदी ने मीडिया के सवालों का जवाब देना जायज नहीं समझा था।

बिमारी से बच्चे मरे तो मरे, बाढ़ से गांव के गांव के तबाह हो तो हो लेकिन नेता जी तो फिल्म देखने में ही मस्त है।

झारखंड के तबरेज अंसारी की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि बिहार के सारण से भीड़तंत्र की गुंडागर्दी की एक और खबर सामने आई है। सारण जिले के बनियापुर इलाके में भीड़ ने शुक्रवार को तीन लोगों को पशु तस्कर के आरोप में पीट -पीटकर मार डाला। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतकों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। मामले में पुलिस की जांच जारी है। आपको बता दें कि गुरुवार को मध्य प्रदेश के नीमच में भी भीड़ ने बकरा चोरी के आरोप में तीन लोगों की बेरहमी से पिटाई कर दी थी।

 

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, स्थानीय लोगों ने पशु चोरी के संदेह मात्र पर शुक्रवार की सुबह तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी। बताया गया है कि स्थानीय लोगों को पशु होने की सूचना मिली। इसके बाद उन्होंने मामले में बिना कोई पुख्ता जानकारी जुटाए इन लोगों को बेहरमी से पीटना शुरू कर दिया जिससे उनकी मौत हो गई। इस घटना से पूरे इलाके में सनसनी का माहौल है। वहीं मृतकों के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है।

दरअसल, नंदलाल टोला में बीती रात पिकअप से आकर पालतू पशु चोरी करने के आरोप में ग्रामीणों के हल्ला पर ग्रामीण एकत्रित हुए और इस दौरान तीन चोर ग्रामीणों के हत्थे चढ़ गए जिनकी ग्रामीणों ने जमकर पिटाई की। चौथा चोर भागने में सफल रहा। ग्रामीणों ने पीकअप गाड़ी जब्त कर और घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर उन्हें पोस्टमॉर्टम के लिए छपरा भेज दिया है और कई थाना की पुलिस घटनास्थल पर पहुंच मामले की जांच कर रही है।

नशे के बढ़ते इस्तेमाल के बीच अब नशा बेचने वालों ने कई नए तरीके इजाद कर लिए हैं, जिनसे नशा आसानी से बिक भी जाए और वह पुलिस की नज़र में भी ना आए। इसी बीच तेलंगाना पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो ड्रग्स वाले चॉकलेट सामान्य चॉकलेट के कवर रैप मे बेचा करते थे। दरअसल तेलंगाना पुलिस ने 1400 मारिजुआना चॉकलेट बरामद किए हैं। ड्रग्स वाले इस चॉकलेट को सामान्य कवर में रैप किया गया था, जिससे किसी को शक न हो, लेकिन मुखबिर की सूचना मिलने पर पुलिस ने सख्ती से जांच-पड़ताल की तो पूरा मामला खुल के सामने आया।

पुलिस अधिकारी जीवन किरण ने बताया कि ‘पान की दुकान में बेचे जाने से पहले मारिजुआना को चॉकलेट में मिलाया जाता था और सामान्य चॉकलेट कवर में लपेटा जाता था’। उन्होंने अगे बताया कि एक बार पकड़े जाने के बाद इस मामले के अभियुक्तों ने अपना काम करने का तरीका बदल दिया और मारिजुआना चॉकलेट तैयार करना शुरू कर दिया, ताकि वे इसे ग्राहकों को आसानी से बेच सकें। गुप्त सूचना के आधार पर हमें पान की दुकान पर छापा मारा और 40 चॉकलेट वाले कुछ पैकेट बरामद किये। इसके बाद मेडचल-मलकजगिरी जिले में छापा मारा गया।

एक पुलिस अधिकारी ने आगे ये बताया कि आरोपियों से पूछताछ करने के बाद हमने एक गोदाम पर छापा मारा, जहाँ से हमें ऐसे 33 पैकेट मिले। हमने मारिजुआना के कुल 1400 चॉकलेट जब्त किए हैं, जिनका वजन 9.4  किलोग्राम है।

पानी भरने को लेकर बच्चों के बीच हुए विवाद को लेकर गर्भवती महिला की गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया। जानकारी लगते ही सीओ, एसएचओ फोर्स के साथ पहुंच गए और शव कब्जे में ले लिया। दरअसल ममता नाम की महिला आरोपी संतोष के बच्चे बुधवार देर शाम पानी भरने पहुंचे।जहा बच्चों में पानी को लेकर विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ गया कि बात बड़ों तक पहुंच गई। अपने बच्चों की समर्थन में ममता आ गई तो दूसरी ओर से आरोपी संतोष भी अपने बच्चों के समर्थन में आकर गाली-गलौज करने लगा। इतनी ही देर में आरोपी संतोष घर से तमंचा निकाल लाया। उसने गर्भवती ममता के सीने में गोली मार दी। जिसे डाक्टरों ने इलाज के दौरान मृत घोषित कर दिया।

कर्नाटक में कुमारस्वामी की सरकार रहेगी या जाएगी, इसका फैसला अब विधानसभा में शक्ति परीक्षण के आधार पर होगा। गुरुवार को 11 बजे सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा होगी। अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के बाद वोटिंग होगी। कांग्रेस-जेडीएस और बीजेपी ने शक्ति परीक्षण में जीत का दावा किया है। गौरतलब है कि सत्तारूढ़ जनता दल-(सेकुलर) और कांग्रेस पार्टी की गठबंधन सरकार के 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं, इसलिए सरकार पर संकट के गंभीर बादल मंडरा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को 15 बागी विधायकों के इस्‍तीफों पर अपना फैसला सुनाया। शीर्ष अदालत ने कहा कि कर्नाटक के विधायकों को विश्‍वास मत में भाग लेने को मजबूर नहीं किया जा सकता है।अदालत ने इस्तीफों पर निर्णय लेने का अधिकार स्पीकर केआर रमेश कुमार पर छोड़ दिया है। सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने विधानसभा अध्‍यक्ष को कहा कि वह अपनी मर्जी के मुताबिक जो भी फैसला करना चाहते हैं, वह करें लेकिन वह पहले बागी विधायकों के इस्तीफों पर फैसला लें।

 

 

उत्तराखंड में जानवरों को बचाने के लिए वन विभाग की तरफ से एक नई मुहिम चलाई गई है। दरअसल वन विभाग ने वन्य जीवो को शिकारियों से बचाने के लिए 100 शिकारियों की लिस्ट तैयार की है। इस लिस्ट में 11 महिलाएं भी शामिल है। इस लिस्ट को दूसरे राज्यों में भी भेजा जाएगा। जिससे शिकारियों पर नकेल कसी जा सके। वाइल्ड लाइफ कंट्रोल ब्यूरो ने जो लिस्ट तैयार की उसमे देश के करीब 20 राज्यों के बड़े शिकारी हैं।  सभी शिकारी फिलहाल सक्रिय और वन्यजीवों के अपराध में लिप्त हैं। अधिकारियों के मुताबिक तस्कर एक जगह घटना को अंजाम देने के बाद दूसरे स्थान पर चले जाते हैं। इस सूची में हरियाणा के तस्करों के संख्या सबसे ज्यादा 20 है, जबकि दिल्ली के 4 और उत्तराखंड के 5 शिकारी शामिल है।

इसरो वैज्ञानिकों की 11 साल की मेहनत को लगा था छोटा सा झटका, दरअसल 15 जुलाई को चंद्रयान लॉन्च किया जाना था लेकिन तकनीकी खराबी के कारण लॉन्च टाल दिया गया। इंडियन स्पेस रीसर्च ऑर्गनाइजेशन(ISRO) ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी थी, लेकिन अब खबर ये हा कि ISRO ने चंद्रयान-2 का लॉन्च 22 जुलाई को तय किया है।

इसरो की ओर से आधिकारिक सूचना दी गई है कि 22 जुलाई को दोपहर 2:43 बजे चंद्रयान-2 को लॉन्च किया जाएगा।

 

गौरतलब है कि पहले लॉन्च 15 जुलाई को होना था लेकिन जीएसएलवी एमकेl में क्रायॉजनिक स्टेज पर ऐन मौके पर लीक होने से इसे टालना पड़ा। बता दें कि हर लॉन्च में एक समय सीमा होती है जिसके अंदर वे नतीजे मिलने की संभावना होती है, जिनके लिए लॉन्च किया जा रहा है। 15 जुलाई को यह समय सबसे ज्यादा 10 मिनट का था लेकिन इसरो के पास बाकी महीने में हर दिन एक मिनट का समय है। 

आपको बता दें कि वैज्ञानिकों के मुताबिक 31 जुलाई तक न लॉन्च कर पाने की स्थिति में चंद्रयान के लिए ज्यादा ईंधन की जरूरत होगी। इसके अलावा फिलहाल चंद्रयान का लक्ष्य एक साल तक चांद का चक्कर लगाने का है, लेकिन सही समय पर लॉन्च न होने से यह वक्त 6 महीने तक भी घट सकता है। संभावित लॉन्च को देखते हुए 18 जुलाई से लेकर 31 जुलाई तक दोपहर 2 बजे से लेकर 3:30 बजे तक के लिए अलर्ट जारी किया गया है।

 

भारत के लिए विश्व कप का सफर कुछ खास नहीं रहा सेमीफाइनल में हार के बाद से ही महेंद्र सिंह धोनी के सन्यास पर सवाल उठ रहे हैं। धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास कब लेंगे ये तो वो ही जाने, लेकिन यह मुद्दा आज एक बहस का विषय बन चुका है। इसी बीच धोनी के कोच केशव बनर्जी ने कहा है कि भारत के पूर्व कप्तान टी-20 वर्ल्ड कप तक खेलना जारी रख सकते हैं।

उन्होंने कहा, 'मेरा मानना है कि माही को टी-20 फॉर्मेट में खेलना चाहिए। 50 ओवर की विकेटकीपिंग और फिर बल्लेबाजी के साथ वनडे खेलना शरीर के लिए बहुत कठिन होता है। फिर गेंदबाजों और फील्डरों की मदद करने के अतिरिक्त दबाव की वजह से वह हमेशा मैदान पर एक्शन में रहते हैं। जबकि टी-20 में उन्हें इतनी जद्दोजहद नहीं करनी पड़ेगी।'

केशव बनर्जी ने आगे कहा, 'धोनी के मौजूदा फिटनेस स्तर से पता चलता है कि खेल के सबसे छोटे प्रारूप में यह पर्याप्त है। मुझे लगता है कि वह अगले टी-20 विश्व कप में खेल सकते हैं।'

धोनी के रिटायरमेंट पर अब तक भारतीय खिलाड़ी या भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की ओर से कोई आधिकारिक रूप से बयान नहीं आया है, लेकिन बनर्जी का मानना है कि इस बारे में जल्द ही फैसला लिया जाना चाहिए।

पाकिस्तान सरकार के पास राजकोश में अब केवल कुछ ही राशि शेश बची है, ऊपर से पहाड़ इस कदर फूटा है कि पाकिस्तान पर वर्ल्ड बैंक ने 6 अरब डॉलर का जुर्माना तक ठोक दिया है।

इस तनाव में पाकिस्तान की सरकार ने मुर्दों को दफन करने के लिए बनने वाली नई कब्रों पर भी टेक्स लगा दिया है। पाकिस्तान सरकार ने 1000 से 1500 पाकिस्तानी रुपयों तक कब्र पर वसूलने का प्रस्ताव दिया है।

पाकिस्तानी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, लाहौर नगर निगम ने सुझाव को मंजूरी के लिए सरकार को भेज दिया है। पाकिस्तान की ओर से ये दलील दी गई है कि रकम का इस्तेमाल कब्रिस्तानों की देखभाल के लिए किया जाएगा। 

इस प्रस्ताव के अनुसार व्यस्क को दफनाने के लिए 1500 रुपये जमा कराने होंगे जबकि नाबालिग को दफनाने के लिए 1000 रुपये जमा कराने होंगे। सरकार ने कब्रिस्तानों में दफनाने के लिए एक समय-सारणी भी प्रस्तावित की है, जिसके तहत आधी रात को 2:00 बजे से सुबह 5:00 बजे के बीच शवों को दफन नहीं किया जा सकता है।

प्रस्तावित अनुसूची के अनुसार, जो परिवार समय सारिणी का उल्लंघन करेंगे, उन्हें अधिकारियों को 2000 रुपये का अतिरिक्त शुल्क देना होगा। अभी कब्रिस्तान में जगह और मुर्दे को दफन करने में 10,000 का खर्च आता है।

Page 1 of 142