Login to your account

Username *
Password *
Remember Me
अन्य बड़ी खबरें

अन्य बड़ी खबरें (705)

मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई (Chief Justice Ranjan Gogoi) ने अगला न्यायधीश बनाने के लिए केंद्र सरकार से सिफारिश की है, जिसमें उन्होंने शरद अरविंद बोबडे को अगला मुख्य न्यायाधीश बनाने को लेकर कहा है। रंजन गोगोई का कार्यकाल 17 नवंबर 2019 में खत्म हो रहा है और नियमों के मुताबिक मौजूदा मुख्य न्यायाधीश के पास यह हक होता है जिसमें वह अगले मुख्य न्यायधीश को चुनने के लिए सरकार से सिफारिश करता है। इसी को देखते हुए रंजन गोगोई ने अगले मुख्य न्यायधीश के लिए जस्टिस शरद अरविंद बोबडे की सिफारिश की थी।

रंजन गोगोई की सिफारिश के बाद जस्टिस शरद अरविंद बोबडे उच्चतम न्यायालय के नए मुख्य न्यायाधीश होंगे। वे 18 नवंबर को मुख्य न्यायाधीश के पद की शपथ लेंगे और उनका कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 तक होगा।

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे का जन्म 1956 में नागपुर में हुआ था और वहीं से उन्होंने अपनी LLB की डिग्री हासिल की है। इसके बाद वे 1978 में बार काउंसिल के सदस्य बने और बॉम्बे हाईकोर्ट “Bombay High Court” की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस करने लगे। वहीं साल 2010 में उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट का अतिरिक्त जज नियुक्त किया गया था। साल 2012 मे वह मध्य प्रदेश के हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने। साल 2013 में वे सुप्रीम कोर्ट के जज  बने।

अब वे 18 नवंबर को मुख्य न्यायाधीश के पद की शपथ लेंगे और उनका कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 तक होगा।

जिस तरह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से हर रोज बॉर्डर से गोलीबारी की खबरें सामने आती रहती हैं । वहीं इस बार बांग्लादेश बॉर्डर से एक बूरी खबर सामने आ रही है । जहां गुरूवार को पूरे भारत में सभी औरतें अपने पति की लंबी आयू के लिए करवाचौथ का व्रत रखी हुई थी । वहीं उनमें कुछ से कुछ औरते ऐसी भी थी जिनके पति उनका व्रत तोड़ने के बजाय देश की सुरक्षा के लिए बॉर्डर पर तैनात थे ।

ऐसी ही एक खबर पश्चिम बंगाल के बहरामपुर में भारत-बांग्लादेश सीमा से सामने आई है । जहां देर रात हुई फायरिंग के दौरान  सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के हेड कांस्टेबल विजय भान सिंह शहीद हो गए । जब ये सूचना उनकी पत्नी सुनीता को दी गई तो शाम होते-होते खुशियां आंसूओं में बदल गई । वहीं इस मामले में शहीद विजय सिंह के बेटे विवेक कुमार ने कहा, 'बांग्लादेश और भारत के बॉर्डर पर फ्लाइंग मीटिंग चल रही थी, तभी यह गनबेटल हुआ और मेरे पिता को गोली लगी है। उनकी डेथ हो गई. मेरी कमांडर से बात हुई थी' ।

अचानक सीमा पर तनाव बढ़ गया कि बांग्लादेश की तरफ एक भारतीय मछुआरे को पकड़ा गया है। इसी बात पर बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश और बीएसएफ के बीच फायरिंग शुरू हो गई, जिसमें विजय भान सिंह शहीद हो गए। फायरिंग में एक कांस्टेबल और बोटमैन जख्मी भी हुआ है।

पीएमसी बैंक के लाखों खाताधरकों को इन दिनों कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है । दरअसल रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक के 15 लाख खाता धारकों का फरमान जारी किया । जिसके चलते वह 6 महीने में चालीस हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकते हैं ।

वहीं इस पर पाबंदी लगाने के लिए जब सुप्रीम कोर्ट पर अर्जी दाखिल की गई तो सुप्रीम कोर्ट ने अर्जी दाखिल करने से साफ इंकार कर दिया । सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा है कि, वह इस मामले में हाई कोर्ट में अर्जी दाखिल करें ।

आपको बता दें कि बिजोन कुमार मिश्रा ने सुप्रीम में इस मामले में अर्जी दाखिल की थी।  अपनी अर्जी में 15 लाख खाताधारकों की सुरक्षा पर चिंता जताते हुए उनके लिए 100 फीसदी इंश्योरेंस कवर की मांग की थी। साथ ही कहा था कि, पीएमसी बैंक में जमा धनराशि की निकासी पर तय की गई पाबंदी खत्म की जाए। ग्राहकों को जरूरत के मुताबिक रकम निकालने की छूट मिले।

आप सभी के पसंदीदा खाद्द सामग्री डोमिनोज पिज्जा वैश्विक मंदी के कारण कंपनी को काफी घाटा हुआ है । जिसके चलते ये कंपनी लगभग 4 देशों में बंद होने की कगार पहुंच चुकी है । ब्रिटेन की सबसे बड़ी कंपनी डोमिनोज ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि, कंपनी इस वक्त बहुत ज्यादा घाटे में चल रही है । इसी वजह से चार देशों में अपना कारोबार समेटने में लगी हुई है ।

अगर आप लोग भी डोमिनोज के पिज्जा खाने बेहद शौकीन हैं तो ये खबर आपको बड़ा दे सकती है । वहीं इस फैसले को लेकर डोमिनोज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड वाइल्ड ने कहा, “ हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि जिन देशों में हम घाटे में जा रहे हैं वहां के आकर्षक बाजारों का प्रतिनिधित्व हम नहीं कर पा रहें हैं”।

अगर इस फैसले को लेकर जिन भारतीयों को चिंता हो रही है वो ना घबराएं क्योंकि, ये फैसला भारत में नहीं बल्कि स्विट्जरलैंड, आइसलैंड, नॉर्वे और स्वीडन जैसे देशों में बंद किया जा सकता है । इस जगहों में डोमिनोज को लगातार घाटा हो रहा है ।

पेरिस में 13 अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक चल रही फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक में पाकिस्तान को लेकर बड़ा फैसला ले ना था। हालांकि अब रिपोर्ट की माने तो पाकिस्तान के ऊपर अब FATF द्वारा ब्लैकलिस्ट होने का खतरा मंडराने लगा है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान द्वारा एक बार फिर से कश्मीर मुद्दे को लेकर तीसरे पक्ष को शामिल करने जैसी नाकाम कोशिश की गई थी। इसी पर FATF की चल रही बैठक में किसी भी देश ने पाकिस्तान का साथ नहीं दिया, और इतना ही नहीं पाकिस्तान को आतंकवादियों को पनाह देने और उन्हें फंडिंग करने को लकेर FATF ने चेतावनी देते हुए सुधरने का आखिरी मौका दिया था।

जांच के बाद सबके सामने ये साबित हो गया है कि पाकिस्तान ने आतंकियों के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया और साथ ही साथ दुनिया में शांति को लेकर झूठा खेल खेला है। इन्हीं सबके चलते पाकिस्तान पर ब्लैक लिस्ट होने का खतरा मंडराने लगा है। बता दें कि पाकिस्तान को पहले से ही ग्रे लिस्ट में रखा गया है, पाकिस्तान द्वारा इससे बाहर निकलने के हर तरह के प्रयास किए जा रहे है। इसकी को देखते हुए एफएटीएफ ने पाकिस्तान को 4 महीने का समय दिया है, और अगर दिए गए समय भी पाकिस्तान नहीं सुधरता है वो ब्लैकलिस्ट हो जाएगा।

पाकिस्तान से हर कोई देश दूरी बनाए हुए है तो ठीक वहीं दूसरी ओर चीन, तुर्की और मलेशिया ने पाकिस्तान के समर्थन में आगे बढ़ते हुए उसके द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की। हालांकि भारत ने पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद को चलाने वाले हाफिज सईद को अपने खातों से फंडिंग की अनुमति देने को लेकर FATF से पाक को ब्लैकलिस्ट करने की सिफारिश की है।

इन तीन देशों के चलते बचा पाकिस्तान

पाकिस्तान को चीन, तुर्की और मलेशिया द्वारा एक साथ दिए गए समर्थन के आधार पर एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट जैसा निर्णय नहीं लिया। आपको बता दें कि FATF द्वारा बनाए गए नियमों के मुताबिक 36 देशों वाले इस संगठन में यदि किसी भी देश को ब्लैकलिस्ट करने जैसा स्थिति आती है तो उसे कम से कम तीन देशों के समर्थन मिलने पर छोड़ा जा सकता है, ठीक ऐसा पाकिस्तान के साथ भी हुआ।

हालांकि पाकिस्तान को FATF की तरफ से कड़ी चेतावनी दी गई है, जिसमें उसे जल्द से जल्द कई जगहों पर सुधार करने का आदेश दिया गया है।

राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने अब बड़ा फैसला लिया है। दरअसल आम आदमी पार्टी एक बार फिर दिल्ली में ODD-EVEN स्कीम लागू करने जा रही है। इस मामले को लेकर आज सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कई जानकारी दी।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि, इस बार दिल्ली में ऑड ईवन के दौरान सीएनजी वाहनों को छूट नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान नियम तोड़ने वाले को 4 हजार रुपये जुर्माना भरना होगा। गाड़ी में स्कूली बच्चे होने पर ऑड ईवन में छूट मिलेगी। इनके अलावा महिलाओं और दिव्यांगों को भी इस नियम से छूट मिलेगी ।

केजरीवाल ने कहा कि, 2 व्हीलर्स पर यह स्कीम लागू नहीं होगी। इसके साथ ही राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया, प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार के मंत्रियों पर ऑड ईवन लागू नहीं होगी। इसके साथ ही विपक्षी नेताओं, इलेक्शन कमीश्नर, सीएजी और दिल्ली हाईकोर्ट के जजों की गाड़ियों को भी इसमें छूट मिलेगी। केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली के सीएम और मंत्रियों पर यह नियम लागू रहेगा । आपको बता दें कि, इस बार दिल्ली में पिछले साल के मुताबिक, प्रदूषण का स्तर ने रिकॉर्ड तोड़ दिया ।

अयोध्या विवाद में चल रही सुनवाई का आज आखिरी दिन है । वहीं उत्तर प्रदेश में लोगों की सुरक्षा को लेकर योगी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है । दरअसल अयोध्या मामले के संभावित फैसले के मद्देनजर सभी पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं । बताया जा रहा है कि, योगी सरकार ने आदेश में सभी अधिकारियों को मुख्यालय में बने रहने के निर्देश दिए हैं ।

इससे पहले योगी सरकार ने अयोध्या फैसले को लेकर उत्तर प्रदेश की सुरक्षा को लेकर एक और बड़ा फैसला लिया है । दरअसल योगी सरकार ने इससे पहले यूपी में 10 दिसंबर तक धारा 144 लागू कर दी थी । वहीं बात अगर अयोध्या मामले की करें तो आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का आज आखिरी दौर चल रहा है । आज शाम 5 बजे तक अयोध्या मामले की सुनवाई खत्म हो जाएगी जिसके बाद 17 नवंबर तक इस मामले में सुप्रीम कोर्ट फैसला घोषित करेगा ।

अयोध्या में दीपावली पर प्रस्तावित दीपोत्सव कार्यक्रम को लेकर भी तैयारियां तेज कर दी गई हैं। इस बार दीपोत्सव में पांच लाख 51 हजार दीप जगमगाएंगे। तैयारियों का जायजा लेने के लिए यूपी सरकार के मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह और डीजीपी सोमवार को अयोध्या पहुंचे थे। अयोध्या फैसला और दीपोत्सव के मद्देनजर अयोध्या में अतिरिक्त पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है। पीएसी के साथ ही 3 जोन से पुलिस फोर्स की डिमांड भेजी गई है।   

महाराष्ट्र में फिलहाल चुनाव प्रचार को लेकर सभी पार्टियों ने तेजी ला दी है । वहीं गरमाते चुनावी मौहोल के बीच अब एक चौंका देने वाली खबर सामने आई है । दरअसल महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से सांसद ओमराजे निंबालकर पर चुनाव प्रचार के दौरान एक हमलावर ने चाकू से बड़ा हमला किया । जिससे उनको गंभीर चोटें भी आई हैं ।

बता दें कि, घटना उस वक्त हुई जब महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए ओमराजे शिवसेना के प्रत्याशी कैलाश पाटिल के लिए पडोली गांव में चुनाव प्रचार कर रहे थे । यह घटना तब हुई जब उनके पास बात करने के बहाने एक युवक आया और बात करते-करते अचानक से उन पर चाकू से हमला कर दिया ।

हमलावर ने सांसद ओमराजे के हाथों और पेट पर हमला किया। जिसके कारण सांसद को कई चोटें भी आईं। हालांकि हमला करने के बाद आरोपी युवक वहां से फरार हो गया। आनन-फानन में सांसद को अस्पताल पहुंचाया गया। घटना के बाद घटनास्थल पर पुलिस भी पहुंच गई है। फिलहाल पुलिस आरोपी हमलावर की तलाश कर रही है।

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग के बिजबेहारा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हो गई है। इस मुठभेड़ में सेना ने 3 आतंकियों को मार गिराया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों को बिजबेहारा में आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद सुबह से ही सर्च ऑपरेशन चलाया गया। सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां बरसाई ।

इससे पहले हाल ही में जम्मू-कश्मीर के गांदरबल से दो आतंकवादी गिरफ्तार किए गए हैं। इन आतंकियों की सुरक्षाबलों को काफी लंबे समय से तलाश थी। गांदरबल में छिपे होने के इनपुट के बाद पिछले करीब दो हफ्तों से आतंकियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान चलाया जा रहा था। करीब दो हफ्तों की मशक्कत के बाद सुरक्षाबलों ने सोमवार को नारंग में दो आतंकियों को पकड़ा।

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में जबसे 370 हटा है तबसे घाटी में आतंकी पूरी तरह से बौखलाए हुए हैं और घाटी में अशांति फैलाने के लिए कोई न कोई हरकत कर ही रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय मंच पर लगातार सहायता मांगने वाले पाकिस्तान को एक बार फिर से बड़ा झटका लगा है। हर जगह से अलग-थलग पड़े पाकिस्तान को 6 दिनों के लिए चल रही फाइनैंशल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक में किसी का समर्थन नहीं मिल रहा है।

13 अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक चल रही FATF की बैठक में पाकिस्तान को किसी भी देश द्वारा किसी भी तरह का समर्थन और सहायता नहीं मिल पा रही है। इतना ही नहीं आतंकवाद गतिविधियों को पनाह देने, आतंकी फंडिंग को न रोकने और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अन्य देशों के साथ संबंधों को देखते हुए पाकिस्तान को FATF संगठन के 'डार्क ग्रे' लिस्ट में डाला जा सकता है, जिसका मतलब होता किसी भी देश को सुधरने के लिए आखिरी चेतावनी देना। बता दें 18 अक्टूबर तक चलने वाली बैठक में 200 से अधिक देशों और संगठनों के प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।

बैठक में हो रही चर्चा के तहत एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान को 'डार्क ग्रे' लिस्ट में डाला जा सकता है, क्योंकि जांच के बाद जो आंकड़ा मिला हैं उसमें पाकिस्तान 27 पॉइंट में से सिर्फ 6 पर ही खरा पाया गया है। इसी को ध्यान में रखते हुए संगठन पाकिस्तान पर कड़ी कार्रवाई कर सकता है। पाकिस्तान को लेकर FATF द्वारा बैठक के अंतिम दिन 18 अक्टूबर को फैसला लिया जाएगा।

आपको बता दें FATF के नियमों में तीन वर्ग आते है जिसमें ग्रे सूची, डार्क ग्रे सूची और ब्लैक सूची शामिल है और वहीं पाकिस्तान मात्र 27 पॉइंट में से सिर्फ 6 पर ही खरा पाया गया है, जिसके चलते इन तीन वर्गों में आने वाली 'डार्क ग्रे’ सूची के तहत पाकिस्तान को कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

Page 1 of 51