Login to your account

Username *
Password *
Remember Me
अन्य बड़ी खबरें

अन्य बड़ी खबरें (756)

अयोध्या मामले पर जहां पूरे भारत ने उसका सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार किया । वहीं इस फैसले पर पूरे भारत में धार्मिक विरोध बढ़ाने के लिए एआईएमआईएम (AIMIM) नेता और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या मामले पर आए फैसले को स्वीकार ना करते हुए असहमति जताई ।  

उन्होंने कहा कि, वह सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले से सहमत नहीं है। ओवैसी, 'हमारा संविधान में पूरा विश्वास है, हम अपने कानूनी हक के लिए लड़ रहे थे हमें पांच एकड़ का दान नहीं चाहिए'।  ओवैसी ने कहा कि हमें (मुस्लिमों को) पांच एकड़ जमीन ऑफर ठुकरा देना चाहिए।

बता दें कि, सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को 70 साल से चले आ रहे विवादित जमीन अयोध्या राम जन्मभूमी पर अपना फैसला सुना दिया। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के हित में फैसला लिया है। कोर्ट ने मुस्लिमों को अयोध्या में 5 एकड़ मस्जिद बनाने के लिए जमीन दी है ।

अयोध्या मामले में फैसला आने के बाद से लगातार सभी नेता भारत से शांत रहने की अपील कर रहे हैं । वहीं अब फैसले के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत का भी इस आयोध्या मामले पर बड़ा बयान सामने आया है ।

मोहन भागवत ने कहा है कि, आरएसएस सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता है। कोर्ट में सभी पहलुओं पर विचार हुआ है. हमें झगड़ा विवाद समाप्त करना है। अयोध्या की सीमा के अंदर ही मस्जिद बनाए जाने के सवाल पर भागवत ने कहा कि जमीन हमें नहीं देनी है सरकार को देनी है। हम पहले कोर्ट के निर्णय का अध्ययन करेंगे। आगे का काम सरकार देखेगी ।

उन्होंने कहा कि, हम कुछ नहीं चाहते कि मस्जिद की जमीन कहां मिले। हम सिर्फ मंदिर चाहते हैं वो हमें मिल गया है। वहीं काशी और मथुरा के विवाद पर भागवत ने कहा कि, संघ किसी कार्य को नहीं करता है. संघ आंदोलन का हिस्सा बनता है। आगे हम अपने भविष्य निर्माण में लग जाएंगे ।

जोधपुर रेलवे स्टेशन के पास दो भारतीय सैनिकों को हिरासत में लिया गया था, हालांकि अब रिपोर्ट के अनुसार उसमें से एक सैनिक को गिरफ्तार कर लिया गया है। पाकिस्तान की एक महिला आईएसआई एजेंट के साथ महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने के आरोप में इन दोनों को हिरासत में लिया गया था, जिसमें से एक को गिरफ्तार कर लिया गया है और दूसरे सनिक को सबूतों के अभाव के चलते छोड़ दिया गया है।

इस पूरे मामले की छानबीन करने पर कई तथ्य सामने आए, जिसको देखते हुए इंटेलिजेंस के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक उमेश मिश्रा ने एक बयान जारी किया और कहा कि यह सैनिक सोशल मीडिया के माध्यम से देश की और सैनिकों की खुफिया जानकारी को पाकिस्तानी महिला एजेंट के साथ साझा करता था, और इस जानकारी को देने के बदले इनको पैसे मिला करते थे।

महानिदेशक ने आगे कहा कि वह सोशल मीडिया के माध्यम से ही उस महिला के संपर्क में आया था, उस महिला द्वारा भेजे गए प्रश्नों का विश्लेषण करते हुए यह पता चलता है कि वह पाकिस्तान की इंटेलीजेंस की सदस्य है।

छानबीन करने पर पता चला है कि गिरफ्तार किए गए सैनिक ने व्हाट्स ऐप के माध्यम से जानकारी भेजी थीं।

जैसे-जैसे मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ती जा रही है । वैसे ही कई पहाड़ी इलाकों में बर्फ पड़ना शुरू हो चुकी है । बात अगर जम्मू-कश्मीर की करें तो आज अचानक भारी बर्फबारी होने से तापमान में भारी गिरावट आई है । जहां लोग इस मौसम का मजा ले रहे हैं, तो वहीं बर्फबारी होने से कश्मीर में कई किसानों की फसलों में नुकसान भी हुआ है ।

बता दें कि, कश्मीर में भारी बर्फबारी होने से कश्मीर के अन्य हिस्सों में आवाजाही बंद कर दी गई है । श्रीनगर-जम्मू हाइवे, श्रीनगर-कारगिल हाइवे, श्रीनगर-पूंछ हाइवे को बंद कर दिया गया है ।

मौसम विभाग का कहना है कि, कश्मीर में इस साल सर्दियों ने जल्दी दस्तक दी है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में अधिकतम तापमान सामान्य से कुछ डिग्री कम दर्ज किया गया है। उधर, जम्मू में वैष्णो देवी के आधार शिविर कटरा में बारिश के चलते तापमान में गिरावट आई है। कश्मीर के अलावा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में भी बर्फबारी शुरू हो गई है ।

करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तान का भारत को लेकर लगातार रूख बदलता हुआ नजर आ रहा है । कुछ दिन पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि, करतारपुर साहिब आने के लिए किसी भी भारतीय को पासपोर्ट लाने की जरूरत नहीं है । लेकिन अब इमरान खान के इस बयान को पाकिस्तानी सेना ने झूठा साबित कर दिया है ।

दरअसल पाकिस्तानी सेना ने भारतीय श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट को अनिवार्य कर दिया है। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा है कि, करतारपुर कॉरिडोर आने वाले भारतीय श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट की जरूरत होगी ।

आपको बता दें कि, इमरान खान ने ट्वीट कर लिखा था कि, करतारपुर आने वाले भारतीयों को पासपोर्ट की जरूरत नहीं है, बस उनके पास एक वैध दस्तावेज होना चाहिए। इसके साथ ही इमरान खान ने कहा था कि श्रद्धालुओं को 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराने की बाध्यता से छूट दे दी गई है। इमरान की पासपोर्ट छूट को उनकी सेना ने ही मानने से इनकार कर दिया है ।

करतारपुर साहिब जाने के लिए सभी सिख श्रद्धालुओं के लिए हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने एक बड़ा ऐलान किया है । दरअसल बुधवार को विधानसभा सत्र की समाप्ति के दौरान उन्होंने कहा कि, करतारपुर साहिब जाने वाले हरियाणा के साढ़े 5 हजार लोगों के बस और ट्रेन का किराया सरकार देगी साढ़े 5 हजार लोगों के बस और ट्रेन का किराया सरकार देगी।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने विधानसभा सत्र की समाप्ति के दौरान कहा कि, विधानसभा सत्र के बाद मुख्य काम मंत्रिमंडल का विस्तार है। इसी हफ्ते हरियाणा मंत्रिमंडल का विस्तार होगा ।

वहीं, कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि, इसके लिए 5 लोगों की कमेटी अनिल विज की अध्यक्षता में बना दी गई है। इसमें तीन लोग बीजेपी और दो लोग जेजेपी के होंगे । आपको बता दें कि, करतारपुर साहिब जाने के लिए पाक की तरफ से भारत को छूट दे दी गई है । भारत के सभी लोग करतारपुर साहिब के दर्शन अब आसानी से कर सकते हैं ।

देश में बढ़ते प्याज के दामों ने जनता की परेशानी बढ़ा दी है । रोजाना खबरें सामने आ रही हैं कि, प्याज के दाम 60 रूपये किलो तक पहुंच गए हैं । वहीं अब खबरें ये भी सामने आ रही हैं कि, जल्द ही प्याज के दाम 100 रुपये के स्तर को छू सकता है।

आपको बता दें कि, खुदरा बाजारों में इस वक्त प्याज की कीमतें 70 से 80 रुपये के बीच चल रही हैं। बात अगर पिछले तीन माह की करें, तो इस अवधि में थोक बिक्री में प्याज के दामों में चार गुना का इजाफा हुआ है। वहीं इन बढ़ते को देख सरकार ने इस पर चिंता जताई है ।

इस मामले में कारोबारियों का कहना है कि बीते वर्ष प्याज का बहुत कम उत्पादन हुआ था। इसलिए इसमें बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। बेमौसम बारिश की वजह से प्याज की फसल प्रभावित हुई है। इसके अतिरिक्त कारोबारियों ने सरकार की प्रतिकूल नीतियों को इसका जिम्मेदार ठहराया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने तीन दिनों की थाईलैंड यात्रा के दौरान बैंकॉक में आयोजित भारत-आसियान सम्मेलन 2019 पर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मोरीसन  से मुलाकात की। इस मुलाकात में दोनों ही नेताओं के बीच कई विषयों पर बातचीत हुई।

दोनों ही नेताओं ने एक-दूसरे देशों के बीच आपसी संबंधों को लेकर बातचीत की, जिसके बाद आपसी संबंध और सहयोग को और मजबूत बनाने के लिए दोनों ही देशों ने इच्छा जताई।

इसके बाद दोनों ही देश के प्रधानमंत्रियों ने शांति और सुरक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए खुली सोच को लेकर बातचीत की। आगे इस बात पर भी सहमति जताई गई कि दोनों देशों के रणनीतिक और आर्थिक हित साझा करते है, जिसके चलते इन्हीं सब आधारों पर दोनों देशों द्वारा एक दूसरे के साथ काम करने को लेकर पता चलता है।

विश्वभर में फैले आतंकवाद और उसको पालने वालों को लेकर दोनों ही देशों ने निपटने के लिए आपसी सहयोग को बढ़ाने को लेकर बातचीत की और साथ ही साथ समुद्री क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सुरक्षा को लेकर बातचीत की।

दिल्ली में वकिलों (Lawyers) और पुलिसकर्मियों (police)  के बीच 2 नंबवर को हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें वकिलों ने पुलिस की गाड़ियों में आग लगा दी थी और साथ ही साथ पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट भी की थी। इसी घटना पर करीब 22 घंटे पहले एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वकील बाइक पर सवार पुलिस के साथ मारपीट कर रहे थे।

इसी विडियो पर एक आईपीएस (IPS) अफसर ने  ट्वीट (tweet) करते हुए अपने दर्द को व्यक्त किया है। आईपीएस अफसर ने ट्वीट कर कहा कि हम पुलिस हैं, हमारा कोई वजूद नहीं है, हमारा परिवार नहीं, हमारे मानवाधिकार नहीं है। यह ट्वीट अरुणाचल प्रदेश के डीआईजी (DIG) और दिल्ली पुलिस में कई सारी जिम्मेदारियां संभाल चुके आईपीएस (IPS) मधुर वर्मा ने किया है।

इस पूरे विवाद के बाद पुलिसकर्मियों ने पुलिस मुख्यालय के बाहर अपने परिवार वालों के साथ धरना-प्रदर्शन किया था। पुलिस ने इस दौरान आरोपी वकिलों के खिलाफ कड़ी कार्यवार्ई की मांग की थी।

आपको बता दें कि 2 नंवबर शनिवार को दिल्ली के तीस हजारी अदालत (Tis Hazari Court) में वकिलों और पुलिसकर्मियों के बीच विवाद हो गया था, जिसके बाद यह मामला हिंसक झड़प में बदल गया था।

दिल्ली में वकीलों और पुलिसकर्मियों की हुई झड़प के बाद आज पुलिसकर्मी सड़कों पर प्रदर्शन करने पर उतर आए हैं । इतना ही नहीं, बल्कि उनके साथ इस प्रदर्शन में उनके परिवार वाले भी शामिल हुए हैं। जिसके चलते सड़कों पर जाम लग गया है और यात्रियों को आने जाने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है ।

प्रदर्शन में शामिल एक महिला पुलिसकर्मियों ने कहा, 'जब हम सेफ नहीं तो दूसरों का क्या सुरक्षा देंगे' प्रदर्शन में शामिल एक सब इंस्पेक्टर की पत्नी ने कहा, अगर पुलिस सड़कों पर पिटती रही तो इसका क्या असर पड़ेगा। अपराधी पुलिस से कैसे डरेंगे ।

दरअसल सोमवार को वकीलों और पुलिस के बीच हुई में वकीलों ने मिलकर एक पुलिसकर्मी की जमकर पिटाई कर दी । जिससे उस पुलिसकर्मी को कई गंभीर चोटें आई हैं । इसी के विरोध में कई पुलिसकर्मी और उनके परिवार सड़कों पर प्रदर्शन करने पर उतर आए हैं। पुलिसकर्मी ने कहा, हमारे साथियों को बुरी तरह पीटा गया, हम चाहते हैं इस मामले में इंसाफ हो और आरोपियों को सजा मिले ।

Page 1 of 54